युवामंच

सत्यमेव जयते

54 Posts

20 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8098 postid : 1320845

जय जय योगी !

Posted On: 25 Mar, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend


आदरणीय मित्रों ,…..सादर प्रणाम

उत्तर प्रदेश में आदरणीय आदित्यनाथ योगी जी के नेतृत्व में नयी सरकार ने दायित्व संभाल लिया है !.. …….शपथग्रहण के साथ ही कमलमय प्रदेश में योगीयुग का शानदार श्रेष्ठ प्रारंभ हुआ है !…..मानवसेवा में समर्पित आदित्यनाथ जी के तेजस्वी आभामंडल और संवेदनशील परिपक्वता से सब चकित प्रभावित उत्साहित है !……….एंटी रोमियो अभियान को अतिशय सराहना मिल रही है !……शोहदों से व्याकुल नारीशक्ति में श्रद्धामय उत्साह साहस का संचार हुआ है ,……काफी मात्रा में कुंठित हो चुके समाज में संतुलित रूप से यह अभियान निरंतर चलना चाहिए !……. यहाँ यह भी ध्यान देने योग्य है कि युवा प्रदेश में आम युवाओं की सहज स्वतंत्रता बाधित दमित नहीं होनी चाहिए !……..सिर्फ मनचलों पर सख्ती का मुख्यमंत्रीजी का ताजा आदेश इस दिशा में सार्थकता भरा है !……….भौतिकवाद में डूबा अहंकारी मानव आज इस मुकाम पर पहुँच चुका है कि ,…हमें तेज़ाब की खुली बिक्री रोकने की आवश्यकता लगती है !………सरकारी कार्यालयों, स्कूलों को पान गुटखा बीडी सिगरेट से मुक्त करने का प्रयास अतिशय अभिनंदनीय है !..

बेहिसाब अवैध पशु कटान पर जोरदार कार्यवाही भी जारी है !…….आज मानवता को गौहत्या कदापि मंजूर नहीं है !……वैसे तो किसी भी पशु को उदरपूर्ति हेतु काटना पाप है ,..लेकिन ..हमारे मौजूदा मानवीय स्तर और आवश्यकताओं को देखते हुए राजसत्ता इसपर प्रतिबन्ध नहीं लगा सकती है ,……बहरहाल किसी भी वधशाला को पूर्ण मानकयुक्त ही होना चाहिए !…….आजकल मुर्गे की खेती भी बहुतायत दुर्गन्ध प्रदूषण पाप फैला रही है !…..इसपर भी यथायोग्य नियंत्रण की अत्यंत आवश्यकता लगती है !……हमारे सामने पापयुक्त रोजगारों से मुक्ति पाने का सुअवसर भी है !…….कोई आत्मा स्वेच्छा से कसाई नहीं बनना चाहती होगी ,……… गौसेवा करने से पुराने पाप भी मिट सकते हैं !……..वैसे प्रत्येक पापनियंत्रण के लिए सरकार ही जिम्मेदार नहीं है ,….लेकिन यह भी सत्य है कि पापप्रसार के लिए पापी सत्ताएं ही ज्यादा जिम्मेदार हैं !………….. योगीजी ने महान दायित्व स्वीकार किया है ,….हम उनके शक्तिमान समर्पण का ह्रदयतल से अभिनन्दन करते हैं !

शराब बहुत खराब सामजिक बीमारी है ,….नारीशक्ति इससे बहुत पीड़ित है !……..इसपर प्रभावी नियंत्रण आवश्यक है !……शराब पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाना आवश्यक लगता है ,…..लेकिन ….इससे अवैध कारोबार बहुत बढ़ता है ,…….पूर्ण प्रतिबन्ध से नशेड़ी जनता और ज्यादा घातक नशों की चपेट में आ सकती हैं !………हमें पहले गाँव गाँव चलते अवैध शराब निर्माताओं विक्रेताओं पर ठोस यादगार कार्यवाही करने की आवश्यकता है !…….यह गन्दा धंधा टुच्चे नेताओं और पुलिसिया सहयोग से ही चलता है !……….जन सहयोग से इस पापी गठजोड़ को मिटाया जा सकता है !……इसके सिवा वैध ठेकों की संख्या में भारी कमी करने की आवश्यकता है !…….ग्रामीण क्षेत्रों में बारह पंद्रह ,…शहरी में पांच सात किलोमीटर की दूरी रखी जा सकती है !……प्रति व्यक्ति बिक्री भी नियंत्रित होनी चाहिए !……… ठेकों का समय दस से चार पांच निर्धारित कर सकते हैं !…..शराब पर भारी अतिरिक्त कर भी आवश्यक है !…….ठेकों की नीलामी पारदर्शी रहनी चाहिए !………प्रभावी नियंत्रण और जागरूकता से हम शीघ्र शराब मुक्त समाज बना सकते हैं !…………..हम योगी सरकार से भरसक सक्षम उपाय करने की विनम्र विनती करते हैं !

मुख्यमंत्री बनने पर योगीजी की दृढ़ संयमित दिनचर्या भी हमें पता चली ,………श्रेष्ठ साधक उपलब्ध साधनों से सर्वश्रेष्ठ परिणाम दे सकता है !………….उनकी विवेकी कर्मठता जनजुड़ाव तीव्रता हमें अपने उच्चतर भविष्य की ठोस आशा देती हैं !………उनमें सामजिक समरसता सद्भाव स्थापित करने वाले महान नाथ सम्प्रदाय के श्रेष्ठ विद्यायुक्त स्वाभाविक संस्कार हैं !………उन्हें पूज्य मोदीजी से बहुत कुछ सीखना भी है !………भ्रष्टाचार के महादीमक से लगभग खोखली पंगु हो चुकी सरकारी मशीनरी को चुस्त दुरुस्त करना उनकी प्रारंभिक परीक्षा है !……….आवश्यकतानुसार उन्हें कठोरतम निर्णय भी लेने होंगे ,….जनता प्रत्येक जनहितकारी कार्य में पूर्णतः उनके साथ है और हमेशा रहेगी !………यद्यपि लम्बी भ्रष्टाचारी आबोहवा में हमारे अधिकाँश जनसेवक पापलिप्त हो चुके हैं ,…फिर भी … चरित्रवान क्षमताओं की कमी नहीं होगी ,…..एक सत्य यह भी है कि आवश्यकता पड़ने पर हम मात्र दस समर्पित अधिकारियों से भी बहुत अच्छा काम कर सकते हैं !……….किसी दुर्भावनाग्रस्त अधिकारी/कर्मचारी संगठन को पीड़ित जनता कदापि माफ़ नहीं करेगी !…….. ..जनप्रतिनिधियों/जनसेवकों ने हमसे बहुत अपराध किया है ,….माफ़ी सिर्फ समर्पित जनसेवा में हैं !

………शिखरीय तत्परता के बावजूद ताकतवर जमीनी नक़ल माफिया अभी तक कामयाब दिखा है ,……पैसे देने वालों के लिए पर्ची किताब दुकान अध्यापक उत्तर सब उपलब्ध हैं !……..सामान्य विद्यालयों के लाखों छात्रों से असामान्य अपराध हो रहा है !……..यहाँ एक दृष्टिकोण और उभरता है ,….हमारे बहुतायत छात्र छात्राएं बहुपक्षी कारकों से कम/बहुतकम पढ़ाई कर पाते हैं !………शिक्षाविदों से यथोचित सलाह मशविरा करके बारहवीं तक सपुस्तक परीक्षा जैसा कोई कदम भी लिया जा सकता है !………स्नातक स्तर पर कोई अनैतिकता सहूलियत कदापि स्वीकार्य नहीं होनी चाहिए !……..मूर्ख स्नातक से सिर्फ और सिर्फ हानि ही संभावित है !………..हमें फेल परीक्षार्थी नहीं चाहिए लेकिन मेधा से भेदभाव मानवता से भारी अपराध है !……..इसका फल भी यथायोग्य दूषित विषैला होता है !……..बहरहाल शिक्षा के उत्थान में शिक्षकों का महान योगदान रहता है ,……..हमारे आम शिक्षकों का हाल किसी से छुपा नहीं है !………..योगी सरकार के सामने यह भी बड़ी चुनौती है !……….भारत अनादिकाल तक तपस्वी संघ द्वारा संचालित विद्याभारती/शिशुभारती जैसी श्रेष्ठ विद्यादायिनी संस्थाओं का कृतज्ञ रहेगा !…….सरस्वती विद्यामंदिर से पढ़े छात्रों में आजीवन चरित्रवान स्वाभिमान जागृत रहता है !…….परमपूज्य स्वामी रामदेव जी का उन्नत भारतीय शिक्षा का महास्वप्न आचार्यकुलम के रूप में तेजी से धरातल पर उतर रहा है !………… हमारे विद्वान् शिक्षामंत्रियों को अपने महान दायित्व को पूरा करने के लिए घोर परिश्रम करना होगा !……….श्रेष्ठ शिक्षा श्रेष्ठ समाज का मुख्य आधार है !

श्रीराम जन्मभूमि मामले में कुछ सूक्ष्म सकारात्मकता के सिवा हमारे अधिकाँश मुस्लिम नेता भ्रम अहंकार के शिकार लगते हैं !……..हम देर से समझने के आदी भी हैं ,……तमाम इस्लामिक कत्लोगारत अपराध और चालीस हजार मंदिरों के टूटने की गुप्त-सुप्त-प्रकट-घोर पीड़ा का इलाज सिर्फ तीन पावन श्रद्धास्थलों से संभव है !………बाहरी शह से उपजे मिथ्या अहंकार का परिणाम घातक हो सकता है ,……हमारे सामने श्रेष्ठ सुअवसर स्वयं आया है !……माननीय उच्च न्यायालय का सकारात्मक सुझाव भारतीय मानवता के लिए बहुमूल्य आधार है !……..शान्ति और स्थायित्व मानवता की मूल चाहना है ,…..स्थायी शान्ति अत्यंत महान फल है ,….हमें इस मौके को चूकना नहीं चाहिए !……………दूषित अहंकार से पीड़ित अधिकाँश मौजूदा मुस्लिम रहनुमा प्रत्यक्ष सत्य को नकारना चाहते हैं !……..कुछ लोग अपने वतन के साथ अपनी कौम को भी भयानक धोखा देते दिख रहे हैं !……..जमीन से कटे नेताओं को विनम्रता पूर्वक अपने पूर्वजों की जमीन देखनी चाहिए !…….यद्यपि संस्कारों से मुक्ति पाना सबके लिए अत्यंत कठिन होता है ,……लेकिन … हमें सार्थक प्रयास करना ही चाहिए !………दुर्भावना बहुत विषैली होती है ,…..इससे स्वच्छता पाने में सबको विनम्र सहयोगी बनना चाहिए !……..भगवान् श्रीराम हम सबके आदर्श पुरुष हैं ,…….भारत का प्रत्येक आम नागरिक भव्य श्रीराम मंदिर का प्रबल पक्षधर है !…..बेहतर होगा यदि मुस्लिम नुमाइंदे स्वयं आगे बढ़कर सद्भाव की पहल करें ,………घरवापसी का प्रबल प्रयत्न करें !…..हमें बंद पड़े प्रेम द्वारों को खोलना ही होगा !………परमधर्म अहिंसा का पालन करना मानवता की महान उपलब्धि होगी !……….प्रेमपूर्वक सत्य को स्वीकारने में बड़प्पन होता है !……सत्य के लिए अल्प आहुति देना भी महानता है !…….अपनी वास्तविक श्रेष्ठता का अहंकार भी नीच कर्म बन जाता है !…….खैर !

योगीजी पर ही आते हैं !…चहुँओर उनकी जयजयकार सुनाई पड़ती है !……….मुख्यमंत्रीजी ने सहयोगियों में विवेकपूर्वक विभाग बाँट दिए हैं !…..सम्मानीय मंत्रीगणों का स्वच्छताप्रेम समर्पित ऊर्जा देखकर बहुत अच्छा लगा !……….हमें पहली बार सच्ची सरकार का आभास हुआ है !………अभी मंत्रिमंडल में कई रिक्तियां भी हैं !…….तमाम समर्थ व्यक्तित्व मंत्रिमंडल से बाहर हैं ,….सबको रखना संभव नहीं हो सकता है ,…लेकिन यथायोग्य जिम्मेदारियां सबको मिलेंगी !……भाजपा सरकार बहुत कुछ करने के लिए आई है !……अहंकारहीनता से सबको बहुत काम करना होगा !……….अब मलाईखोरी संभव नहीं हैं ! ……श्रेष्ठजनों में भी अहंकार एक सामान्य विकार हो सकता है ,….सबको विनम्रतापूर्वक इससे बचना चाहिए !…….लालबत्ती पर चली चर्चाओं में यह समझना आवश्यक है कि ,…..बड़े जिम्मेदारों को विशेष सुविधा मिलनी ही चाहिए ,……लेकिन पिछली निकृष्ट सरकारों की लालबत्ती संस्कृति अतिशय अनैतिक रही ,……..तब दर्जाप्राप्त नालायक मंत्रियों के सालों के सौतेले जमाई तक लालबत्ती लगाते थे ,……कमाई भी करते थे !……….सत्यनिष्ठ योगीराज में वह समय कदापि नहीं आ सकता है !…….किसी भी निजी गाडी में कोई लाल नीली बत्ती कदापि नहीं लगनी चाहिए !….कोई लगाए तो उसे यादगार लात लगानी बहुत जरूरी है !……….अखिल भारतीय राजनैतिक दल के रूप में भाजपा नेताओं कार्यकर्ताओं की सेवाभावी सादगी, सतत सत्यनिष्ठा कर्तव्यनिष्ठा भी अपेक्षित है ,….सब संघर्ष की भट्ठी से तपकर निकले हैं ,…वस्तुतः तप ही रहे हैं ,…..किसी भी हालत में उग्रता उद्दंडता नहीं होनी चाहिए ,…….मलिनता द्वेष हमारा चरित्र नहीं होना चाहिए !………..माननीय मुख्यमंत्री के रूप में वन्दनीय योगीजी स्वयं अतिसमर्थ हैं ,…..पूज्य प्रधानमंत्री श्री मोदीजी उनके आदर्श दिशानिर्देशक संरक्षक हैं ,……प्रत्येक दृष्टिकोण से दोनों ही मानवता के शिखरपुरूष हैं !……..जाति धर्म लिंग क्षेत्र आदि बंधन इनके लिए अत्यंत गौण हो चुके है !……..उल्लासित अभिलाषित भारतीय जनता अपने सभी श्रेष्ठजनों का पुनः पुनः हार्दिक अभिनन्दन शतशत वंदन करती है !…………हर हर मोदी – जय जय योगी !………..……ॐ शांति !………….भारत माता की जय !!……वन्देमातरम !!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran